More on post retirement postings of Judges, in Gujarat context

By our desk, Gandhinagar, 17 February 2013

This piece is in support of Shri Arun Jaitley’s article questioning post retirement postings of Judges. Click here

In March 2010 Delhi’s Pinoneer published an article by Abraham Thomas with the title, “It’s official:Bait Modi, get rewarded”. After reading Shri Arun Jaitley’s piece on Justice Katju, we can make a new heading, “It’s official: Bait Modi, get rewarded, or get rewarded, bait Modi”.

Click here

Abraham Thomas in that article allotted last three paragraphs to Justice Khare, and you can read it here:

Former Chief Justice of India VN Khare.

One other awarded personality who has found fault with Modi, accusing him of conniving with the perpetrators of the post-Godhra riots, is former Chief Justice of India VN Khare.

As Chief Justice, Khare had castigated Modi Government for failing its “raj dharma” of protecting the life and liberty of its citizens. On his retirement in 2004, Khare gave an interview to a leading national daily where he commented particularly on the State’s ‘collusion’ that he claimed forced him to react to the petitions filed by Teesta and her NGO. He was quoted as saying, “I found there was complete collusion between the accused and the prosecution in Gujarat, throwing rule of law to the winds. The Supreme Court had to step in to break the collusion to ensure protection to the victims and the witnesses.”

It was under him that the riot cases began to be monitored on a periodic basis and the Best Bakery case, where 21 accused were acquitted, got reopened. Khare was the recipient of the Padma Vibhushan, the second highest civilian award for his contribution in the field of public affairs in 2006.

______

Justice Khare was awarded Padma Bhushan which is just an award, but what Mr. Jaitley points out is post retirement postings, and it is more serious.

Supreme Court Justice Arijit Pasayat

Look at the example of Justice Arijit Pasayat.

Supreme Court Justice Arijit Pasayat who once termed people in Gujarat’s 2002 regime as modern-day ‘Neros’, who ordered to transfer Best bakery case outside Gujarat for retrial in Maharashtra, who ordered SIT probe into Narendra Modi, his ministers role in 2002 Godhra riots just couple of days before polling in the state for Lok Sabha elections, enjoyed his last working day on Friday in the Supreme Court of India retired 9 May 2009 and was appointed as the first Chairman of Competition Appellate Tribunal (CAT) by the central government in less than two weeks after his retirement. He took a charge of this post on 20th May 2009 for five years term.

After CAT, Justice Pasayat was appointed as Chairman of Authority for Advance Rulings, Central Excise, Customs & Service Tax in 2012.

Click here

If you are more interested about Justice Pasayat, please read this article from Pioneer by KN Bhat

Click here

Justice Tarun Chaterjee

Another example is Justice Tarun Chaterjee. Justice Tarun Chatterjee and Aftab Alam had ordered CBI inquiry in Sohrabuddin encounter case. Chatterjee was given post-retirement posting.

Click here

Look what Ram Jethamalani as a councel of Amit Shah in Sohrabuddin encounter case told Supreme court about Justice Tarun Chatterjee in November 2011: Jethmalani even did not spare the judge who handed over the case to CBI. He said, “How does a judge who is under investigation of CBI order the same agency to investigate?” He was referring to Justice Tarun Chatterjee, since retired, whose role in the UP provident fund scam was under investigation.

“The continuation of judge and his likelihood of arrest was all at stake, for which reason he should have recused (withdrawn) from the case,” the senior counsel said, adding, “It is instances such as these that have prompted many to demand judges to be brought under the Lokpal.”

Click here

On next day, the Supreme Court had to ask then the UPA Government to explain whether there was any nexus between the judge and the Centre behind ordering a CBI probe into the Sohrabuddin Sheikh fake encounter killing on January 12, 2010.

Former Gujarat minister of state for Home Shri Amit Shah’s lawyer Jethmalani said the Supreme Court’s January 12 order directing CBI probe into the case of Sohrabuddin fake encounter was illegal because of two events – lead judge on the bench Justice Tarun Chatterjee was under CBI scanner in the Ghaziabad district judiciary provident fund scam case and second, he was given a cushy assignment by the Centre on his retirement immediately after ordering transfer of the fake encounter probe from Gujarat Police to CBI.

Arguing against CBI’s plea for cancellation of Shah’s bail before a bench of Justices Aftab Alam and Ranjana P Desai, Jethmalani said, “Prejudice can be of two types — actual and apparent. Apparent prejudice includes any fiscal interests. The central government has provided a cushy post-retirement job (to Justice Chatterjee). That is a direct instance of fiscal interest.”

He said anyone who was being probed by CBI must have been in communication with the agency’s investigators. “Any reasonable person has cause to believe there will be a motivation to please the CBI,” he claimed.

Shah’s lawyer said he came across a terminology for the first time in the PF scam case – no prosecutable evidence against Justice Chatterjee, which was informed by the attorney general to the apex court. But CBI did send a report to the appropriate authority on this.

Further, he reasoned that when the CBI officers were constantly questioning the judge, there was a reasonable cause to believe “there will be a motivation to please the CBI”. This got proved later when the charge-sheet in the PF scam neither held the judge “guilty” or “not guilty”. Instead, “There was an inscrutable observation against him that there is no prosecutable evidence. I have not come across this word in the Criminal Procedure Code.”

Jethmalani said for this reason, his client believed that the January 12 order was a result of political conspiracy. “All proceedings before the bench on January 12 should be declared non-est(non-existent in law). It is a duty this court owes to the system. A great damage will be done if things are brushed under the carpet,” he said.

When the bench sought the Centre’s response, additional solicitor general Indira Jaising attempted to wriggle out by saying she was representing the Centre in Rubabuddin Sheikh’s writ petition and not in either the cancellation of bail or transfer of the trial outside Gujarat.

But the bench insisted for the Centre’s response. “It has been said that the whole investigation is part of a political conspiracy. He (Jethmalani) has alleged that the judge, on behalf of the party at the Centre, directed the order. It is for you to see whether it concerns you or not,” the bench said.

On the plea for transfer of the case outside the state because of surcharged atmosphere, Jethmalani said CBI’s evidence relating to 200 extortion complaints against Shah had no basis and even the bench had termed them as trash.

“Then they say there is a surcharged atmosphere in Gujarat. It is a statement that no decent citizen in this country should accept. It is the most well governed state. Yes, riots took place in 2002. But it is a forgotten affair now. You cannot stigmatize the entire judiciary of the state to seek transfer of this one case,” he said.

“They (the CBI) have become so brave and indifferent to the course of justice that they have alleged that the accused have kith and kin in judiciary. I hope the state of Gujarat may have investigated this. Even if it was true, let the CBI go to chief justice of the high court and ask him to give a judge who is not the kith and kin of any accused,” he said.

On the plea of CBI to transfer the trial against Shah outside Gujarat, Jethmalani was critical of the agency alleging that kith and kin of accused serve in the judiciary. The court directed the Centre and the amicus curiae in the case, former Solicitor General Gopal Subramanium to come prepared for arguments.

Click here

In September 2009 Shri Amit Shah had moved a petition praying that Justice Aftab Alam should also rescue himself from hearing the case and said the January 12 order of awarding CBI investigation in Sohrabuddin encounter case passed by a Bench comprising Justice Tarun Chatterjee, who had since retired, and Justice Aftab Alam suffered from grave impropriety.

Shah said the January 12 order ought to be recalled on the ground of bias “as there is a reasonable possibility or likelihood that Justice Chatterjee, who passed the order, was biased and suffered from automatic disqualification to hear the case as he himself was under investigation by CBI for criminal breach of trust at the time he was handing over the case to CBI”.

“If Justice Aftab Alam was in the know of the fact that Justice Tarun Chatterjee suffered from automatic disqualification, Justice Alam ought to have rescued himself from hearing the case,” he further pleaded.

Shah said CBI was brought into the case “by a conspiracy involving different institutions” and had carried out an unfair and illegal probe as an instrument of the central government to enable the Centre to wreak political vengeance on him and the Narendra Modi government.

Click here

About the corruption case involving Jusice Tarun Chatterjee read here:

http://deshgujarat.com/2010/08/01/judge-who-ordered-cbi-probe-in-sohrab-case-himself-under-cbi-scanner-for-corruption/

The Central Bureau of Investigation (CBI) had recommended action against a former Supreme Court judge Tarun Chatterjee and 23 other judges for their role in the infamous multi-crore Ghaziabad provident fund (PF) scam.

A foolproof case could not be built against several judges including Chatterjee because of the mysterious death of the main accused and bill clerk Ashutosh Asthana. Asthana, who died under mysterious circumstances in Dasna jail in Ghaziabad, had named several judges including Tarun Chatterjee as beneficiaries of the money illegally diverted from the state treasury in his confessional statement before a magistrate.

Asthana’s family had alleged that Asthana was killed by poison in custody.Family said he was “murdered” on the instructions of powerful people involved in the scam.

India Today in its report quoting the CBI sources said, it had questioned Justice Chatterjee at his residence towards the end of 2008 while he was a Supreme Court judge, after seeking permission from the then CJI K. G. Balakrishnan.

The article further said: The CBI, sources said, had questioned Justice Chatterjee at his residence towards the end of 2008 while he was a Supreme Court judge, after seeking permission from the then CJI K. G. Balakrishnan. Sources said a CBI team went to Chatterjee’s official residence and questioned him on Asthana’s statement before a judicial magistrate. Asthana had alleged that household goods were purchased and transported from Ghaziabad to his house in Kolkata. The CBI had also questioned Justice Chatterjee’s son Anirudh Chatterjee in Kolkata on allegations that he had accepted a laptop and a mobile phone. Though Justice Chatterjee denied the allegations during questioning, the agency, sources said, was able to match the handwriting on the bills to a relative of the former apex court judge. The ex-SC judge had, however, claimed that he had foot the bill himself and had exhibited photocopies of a cheque he had given to the shopkeeper as proof, sources said.

Click here

In August 2010, Amit Shah’s lawyer Ram Jethmalani sought recall of the court’s order for the CBI probe in the Sohrabuddin encounter case by disclosing that that the judge who passed the order was himself under CBI scrutiny.

Read Pioneer dailys’ Abraham Thomas’s reporting here on the courtroom drama on that day:

“Its terribly embarrassing but true that evidence has come to our possession that a conspiracy was hatched at the highest levels of politics of the country to destabilize the Gujarat Government,” Jethmalani said, referring to the January 12, 2010

order passed by a Bench of Justices Tarun Chatterjee (since retired) and Aftab Alam for CBI probe.

Appearing for former Gujarat Minister Amit Shah, Jethmalani said there was a clear link between the order and a pending investigation against the judge, named an accused in the PF scam. “Mr Justice Chatterjee was himself being investigated by the CBI. It was thoroughly improper for him to have heard the case.”

After a spell of dead silence that followed Jethmalani’s sensational charge, Solicitor General Gopal Subramanium, amicus curiae in the case, said,

“Don’t make such allegations against judges. It is unfortunate since this was never pointed out that day by the senior counsel representing the State (Gujarat).”

When Jethmalani replied that the information came in his way only later, the veteran lawyer found himself under attack from the court. “Your statement has hurt me and it would hurt your reputation most being a senior lawyer,” said Justice Alam.

Jethmalani remarked, “I have no reputation to lose…and if by arguing this way my reputation is gone, so be it.”

Click here

This piece was at attempt to put all Gujarat related recent relevant references on one page in light of Mr. Jaitley’s article questioning Justice Katju’s post retirement posting.

Advertisements

California Parents Sue Over Religious Yoga Classes in Grade School

The parents of two California grade school students have sued to block the teaching of yoga classes they complain promote eastern religions, saying children who exercise their choice to opt out of the popular program face bullying and teasing.

The Encinitas Unified School District, near San Diego, began the program in September to teach Ashtanga yoga as part of the district’s physical education program—and school officials insist the program does not teach any religion.

Lawyers for the parents challenging the yoga program disagreed.

“As a First Amendment lawyer, I wouldn’t go after an exercise program. I don’t go after people for stretching,” said attorney Dean Broyles, who heads the National Center on Law and Policy, which filed the suit on Wednesday in a San Diego court.

“But Ashtanga yoga is a religious-based yoga, and if we are separating church and state, we can’t pick and choose religious favorites,” he said.

The lawsuit is the latest twist in a broader national clash over the separation of religion from public education that has seen spirited debate on issues ranging from the permissibility of student-led prayer to whether science instructors can teach alternatives to evolution.

The lawsuit, which does not seek any monetary damages, objects to eight-limbed tree posters they say are derived from Hindu beliefs, the Namaste greeting and several of the yoga poses that they say represent the worship of Hindu deities.

According to the suit, a $533,000 grant from the Jois Foundation, which supports yoga in schools, allowed the school district to assign 60 minutes of the 100 minutes of physical education required each week to Ashtanga yoga, taught in the schools by Jois-certified teachers.

Broyles said that while children are allowed to opt out of the yoga program, they are not given other exercise options.

“The kids who are opting out are getting teased and bullied,” he said. “We have one little girl whose classmates told her her parents are stupid because she opted out. That’s not supposed to happen in our schools.”

Encinitas schools Superintendent Tim Baird said the suit was unfounded and that the district had worked with parents who had concerns as they developed and implemented the program.

“We are disappointed by the suit. We thought we had worked well with the concerned parents and had resolved their concerns,” he added.

Encinitas resident Dave Peck said his law firm had offered to represent the school district for free but was turned down and is now working with parents who support teaching yoga in schools. He called the lawsuit “a tortured attempt to find indoctrination where none exists.”

“There is really no dispute as to the physical and mental health benefits of the yoga program—teachers and parents throughout the district have raved about noticeable improvement in the students’ focus,” said Peck, whose children attend Encinitas schools.

“We reject the argument that yoga poses constitute the practice of Hinduism as both a matter of law and common sense. There is absolutely nothing religious or spiritual about the classroom instruction,” he said

Asthanga Yoga

Asthanga Yoga

Sangha our Seva work ( Hindi Bhasya)

संघ और सेवा

संघ मतलब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ. उसे समझ पाना जरा कठिन है. कारण, विद्यमान संस्थाओं के नमूने में वह नहीं बैठता. उसके नाम का हर शब्द महत्त्च का है. सप्रयोजन है. तथापि पहला ‘राष्ट्रीय’ शब्द उन सबमें सर्वाधिक महत्त्व का है, ऐसा मुझे लगता है. निरपेक्ष भाव से काम करने वाले अनेक कार्यकर्ता होते है. उन्हें हम ‘स्वयंसेवक’ कह सकते है. ऐसे कार्यकर्ताओं की कोई संस्था या समूह हो सकता है. उसे हम संघ कह सकते है. लेकिन उसमें का हर ‘संघ’ ‘राष्ट्रीय’ मतलब राष्ट्रव्यापी होगा ही ऐसा नहीं. और, ‘राष्ट्र’ इस शब्द के अर्थायाम के बारे में भी संभ्रम है. दुनिया में अन्यत्र वह नहीं भी होगा, लेकिन हमारे देश में है. हम सहज, लेकिन स्वाभिमान से, कह जाते है कि, १५ अगस्त १९४७ को हमारे नए राष्ट्र का जन्म हुआ. तो १४ अगस्त को हम क्या थे? ‘राष्ट्र’ नहीं थे? कुछ लोग ‘राज्य’ को ही राष्ट्र मानते है; तो अन्य कुछ, देश मतलब राष्ट्र समझते है. ‘राज्य’ और देश का ‘राष्ट्र से’ घनिष्ठ संबंध है. लेकिन ‘राष्ट्र’ उनसे अलग, उनसे व्यापक, उनसे श्रेष्ठ होता है. देश के बिना ‘राष्ट्र’ हो सकता है? रहा है. ‘इस्रायल’ यह उसका उदाहरण है. १८०० वर्ष उन्हें देश नहीं था. लेकिन हमारा देश और हम एक राष्ट्र है मतलब ज्यू राष्ट्र है. इसलिये दुनिया में कहीं भी रहने वाला ज्यू, वह हमारा बंधु है, यह वे भूले नहीं. मतलब अपना राष्ट्र वे भूले नहीं. फिर राष्ट्र मतलब क्या होता है? राष्ट्र मतलब लोग होते है. राष्ट्र मतलब समाज होता है. किन लोगों का राष्ट्र बनता है या लोगों का राष्ट्र बनने की क्या शर्ते है उसका विवेचन एक स्वतंत्र विषय है. आज वह प्रस्तुत नहीं. मुझे, यहॉं, यह अधोरेखित करना है कि, संघ के सामने सतत, अव्याहत, राष्ट्र का ही विचार होता है. मतलब अपने लोगों का, अपने समाज का, विचार होता है.

सेवा कार्य का प्रारंभ
हमारे इस राष्ट्र में जो समाज रहता है, उस संपूर्ण समाज का जीवनस्तर समान नहीं है. कुछ लोग बहुत गरीब है. अशिक्षित है. नए आधुनिक जीवन से उनका परिचय ही नहीं. वहॉं आरोग्य नहीं. उसकी व्यवस्था भी नहीं. वे सब हमारे ही समाज के लोग है. मतलब वे हमारे राष्ट्र के घटक है. क्या उन्हें ऐसा नहीं लगना चाहिए कि, हम भी इस राष्ट्र के घटक है. इस मौलिक बात का हमारे समाज बंधुओं को न ज्ञान था और न भान. संघ ने यह करा देने की ठानी; और संघसंस्थापक डॉ. के. ब. हेडगेवार जी के जन्म शताब्दी वर्ष मतलब १९८९ से संघ ने यह काम हाथ में लिया. संघ में ‘सेवा विभाग’ शुरु हुआ. इसके पूर्व संघ के स्वयंसेवक व्यक्तिगत स्तर पर सेवा कार्य करते थे. छत्तीसगढ़ में जशपुर का वनवासी कल्याण आश्रम १९५२ में शुरु हुआ था. वह एक स्वयंसेवक ने ही शुरु किया था. बिलासपुर जिले के चांपा गॉंव में भारतीय कुष्ठ धाम, एक स्वयंसेवक ने ही शुरु किया था. संघ स्वयंसेवकों के व्यतिरिक्त अन्य महान् पुरुषों ने भी सेवा कार्य से लौकिक प्राप्त किया है. कुष्ठरोग निवारण के संदर्भ में अमरावती के शिवाजीराव पटवर्धन, वरोडा के बाबासाहब आमटे, वर्धा के सर्वोदय आश्रम के कार्यकर्ताओं के नाम सर्वत्र विख्यात है. मेरे मित्र शंकर पापळकर का सेवा प्रकल्प, मूक-बधिर और मतिमंद बालकों के संदर्भ में है. मुझे याद है कि पापळकर का अमरावती जिले के वझ्झर का प्रकल्प मैंने दो-तीन बार देखा है. विलक्षण कठिन है उनका काम. नाली में, कचरा कुंडी में, रेल प्लॅटफार्म पर छोड दिये अनाथ, अपंग नवजात शिशुओं के वे ‘पिता’ बने है. उस आश्रम में का दिल को छूने वाला एक प्रसंग आज भी मुझे याद है. मैं भोजन करने बैठा था, उन्होंने एक लड़के को मेरे सामने लाकर बिठाया, और मुझसे कहा, इसे एक निवाला अपने हाथ से खिलाईये. उस लड़के के दोनों हाथ नही थे. मैंने उसे एक निवाला खिलाया. मेरा दिल इतना भर आया था कि, मुझे आँसू रोकना बहुत कठिन हुआ. मुझे वह एक निवाला, हजार लोगों को अन्नदान करने के बराबर लगता है.

सेवा भारती का विस्तार
मुझे यह बताना है कि, यह सब वैयक्तिक प्रकल्प प्रशंसनीय है, फिर भी उनके विस्तार और क्षमता को भी स्वाभाविक मर्यादा है. संघ ने वर्ष १९८९ में, सेवा कार्य को अखिल भारतीय आयाम दिया. अपनी रचना में ही ‘सेवा विभाग’ नाम से एक नया विभाग निर्माण किया. उसके संचालन के लिए ‘सेवा प्रमुख’ पद की निर्मिति कर, एक श्रेष्ठ प्रचारक को उसका दायित्व सौपा. स्वयंसेवकों द्वारा व्यक्ति स्तर पर जो काम शुरु थे, वह सब इस विशाल छत्र के नीचे आए. जशपुर का वनवासी कल्याण आश्रम, ‘अखिल भारतीय वनवासी कल्याण आश्रम’ बना. और केवल वनवासी क्षेत्र के ही नहीं, अन्य सब क्षेत्रों में के सेवा कार्यो के लिए एक व्यवस्था निर्माण की गई. वह व्यवस्था ‘सेवा भारती’ के नाम से जानी जाती है. इस सेवा भारती के कार्यकलापों का गत दो दशकों में इतना प्रचंड विस्तार हुआ है कि, डेढ लाख से अधिक सेवा प्रकल्प चल रहे है.

एक अनुभव
हमारे समाज में जो दुर्बल, उपेक्षित और पीडित घटक है, उन पर ‘सेवा भारती’ ने अपना लक्ष्य केंद्रित किया है. उनमें के, जंगल में, पहाड़ों में, दरी-कंदराओं में रहने वालों के लड़के-लड़कियों के लिए एक शिक्षकी शालाए शुरु की. उस शाला का नाम है ‘एकल विद्यालय’. गॉंव का ही एक युवक इस काम के लिए चुना जाता है. उसे थोड़ा प्रशिक्षण देते है और वह वहॉं के बच्चों को सिखाता है. संपूर्ण हिंदुस्थान में ऐसे एकल विद्यालय कितने होगे, इसकी मुझे कल्पना नहीं. लेकिन अकेले झारखंड आठ हजार एकल विद्यालय है. करीब १०-१२ वर्ष पहले की बात है. जशपुर जाते समय रास्ते में, झारखंड का एक एकल विद्यालय देखने का मौका मिला. हमारे लिए एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था. १० से १४ वर्ष आयु समूह के ५५ बच्चें और उनके पालक उपस्थित थे. उनमें २३ लड़कियॉं थी. उन्होंने गिनती सुनाई, पुस्तक पढ़कर दिखाए, गीत गाए. गॉंव में शाला थी. मतलब इमारत थी. शिक्षक भी नियुक्त थे. लेकिन विद्यार्थी ही नहीं थे. मैंने एक देहाती से पूछा, आपके बच्चें उस शाला में क्यों नहीं जाते? उसने कहा, वह शाला दोपहर १० से ४ बजे तक रहती है. उस समय हमारे बच्चें जानवर चराने ले जाते है. सरकारी यंत्रणा यह क्यों नहीं समझती कि, शाला का समय विद्यार्थींयों की सुविधा के अनुसार रखे. यह एकल विद्यालय को सूझ सकता है कारण उसे समाज को जोडना होता है. झारखंड के यह एकल विद्यालय सायंकाल ६॥ से ९ तक चलते है. गॉंव में बिजली नहीं थी. लालटेन के उजाले में शाला चलती थी; और शिक्षक है ९ वी अनुत्तीर्ण!

सेवा संगम
वनवासी क्षेत्र के एकल विद्यालय यह सेवा प्रकल्प का एक प्रकार है. ऐसे अनेक प्रकल्प-प्रकार है. जैसे अन्यत्र है, वैसे विदर्भ में भी है. २२ फरवरी २०१३ को इन सेवा प्रकल्प प्रकारों का एक संगम नागपुर में हुआ. रेशीमबाग में. इस संगम का नाम ही ‘सेवा संगम’ है. इस ‘सेवा संगम’ का उद्घाटन, नागपुर सुधार प्रन्यास के प्रमुख, श्री प्रवीण दराडे (आयएएस), उनकी पत्नी, आदिवासी विकास अतिरिक्त आयुक्त डॉ. पल्लवी दराडे और शंकर पापळकर ने किया. यह कार्यक्रम राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की जनकल्याण समिति द्वारा आयोजित था.

मुझे ऐसी जानकरी मिली है कि, विदर्भ में, करीब साडे पॉंच सौ सेवा प्रकल्प चल रहे है. अर्थात् एक संस्था के एक से अधिक प्रकल्प भी होगे ही. इनमें से करीब ८० संस्थाओं के प्रकल्पों की जानकारी देने वाली प्रदर्शनी भी वहॉं थी.

सेवा कार्य के आयाम
फिलहाल सेवा के कुल छ: आयाम निश्‍चित किए है. १) आरोग्य २) शिक्षा ३) संस्कार ४) स्वावलंबन ५) ग्राम विकास और ६) विपत्ति निवारण.
‘आरोग्य’ विभाग में, रक्तपेढी, नेत्रपेढी, मोबाईल रुग्णालय, नि:शुल्क स्वास्थ्य परीक्षण, परिचारिका प्रशिक्षण तथा आरोग्य- रक्षक-प्रशिक्षण, ऍम्बुलन्स और रुग्ण सेवा के लिए उपयुक्त वस्तुओं की उपलब्धता यह काम किए जाते है. नागपुर के समीप खापरी में विवेकानंद मेडिकल मिशन द्वारा चलाया जाने वाला अस्पताल, यह इस आरोग्य प्रकल्प का एक ठोस और बड़ा उदाहरण है. अब अमरावती में भी ‘डॉ. हेडगेवार आयुर्विज्ञान एवं अनुसंधान संस्थान’ शुरु हो रहा है. रक्तपेढी, नागपुर के समान ही अमरावती, अकोला, यवतमाल और चंद्रपुर में भी है. सबका नाम ‘डॉ. हेडगेवार रक्तपेढी’ है.

२) शिक्षा : ऊपर एकल विद्यालय का उल्लेख किया ही है. लेकिन इसके अतिरिक्त, जिनकी ओर सामान्यत: कोई भूल से भी नहीं देखेगा, ऐसे बच्चों की शिक्षा और निवास की व्यवस्था करने वाले भी प्रकल्प है. नागपुर में विहिंप की ओर से, प्लॅटफार्म पर भटकने वाले और वही सोने वाले बच्चों के लिए शाला और छात्रावास चलाया जाता है. उसका नाम है ‘प्लॅटफार्म ज्ञानमंदिर निवासी शाला’. फिलहाल इस शाला में ३५ बच्चें है. श्री राम इंगोले वेश्याओं के बच्चों के शिक्षा की व्यवस्था देखते है, तो वडनेरकर पति-पत्नी, यवतमाल में पारधियों के बच्चों को शिक्षित कर रहे है. ये बच्चें अन्य सामान्य बच्चों की तरह शाला में जाते है. लेकिन रहते है छात्रावास में. लड़के और लड़कियों के लिए अलग-अलग छात्रावास है. इसे चलाने वाली संस्था का नाम है ‘दीनदयाल बहुउद्देशीय प्रसारक मंडल’. अमरावती की ‘प्रज्ञाप्रबोधिनी’ संस्था भी पारधी विकास सेवा का काम करती है. ‘पारधी’ मतलब अपराधियों की टोली, ऐसा समझ अंग्रेजों ने करा दिया था. स्वतंत्रता मिलने के बाद भी वह कायम था. संघ के कार्यकर्ताओं ने वह दूर किया. सोलापुर के समीप ‘यमगरवाडी’ का प्रकल्प संपूर्ण देश के लिए आदर्श है. छोटे स्तर पर ही सही यवतमाल का प्रकल्प भी अनुकरणीय है, यह मैं स्वयं के अनुभव से बता सकता हूँ. अमरावती का ‘पारधी विकास सेवा कार्य’, यमगरवाडी के प्रणेता गिरीश प्रभुणे की प्रेरणा से शुरु हुआ है. ‘झोला वाचनालय’ यह नई संकल्पना कार्यांवित है. इसमें थैले में पुस्तकें भरकर वाचकों को उनके घर जाकर जाती है. यवतमाल का दीनदयाल बहुउद्देशीय प्रसारक मंडल बच्चों को तंत्र शिक्षा के भी पाठ पढ़ाता है. यहॉं बच्चें च्यॉक बनाते है, अंबर चरखे पर सूत कातते है और वह खादी ग्रामोद्योग संस्था को देते है.
३) संस्कार : शाला की शिक्षा केवल किताबी होती है. परीक्षा उत्तीर्ण करना इतना ही उसका मर्यादित लक्ष्य होता है. लेकिन शिक्षा से व्यक्ति सुसंस्कृत बननी चाहिए. इस शालेय शिक्षा के साथ हर गॉंव में संघ शाखाओं द्वारा ग्रीष्म की छुट्टियों में मर्यादित कालावधि के लिए, संस्कार वर्ग चलाए जाते है. इन वर्गो में मुख्यत: झोपडपट्टी में के विद्यार्थीयों का सहभाग होता है. उन्हें कहानियॉं सुनाई जाती है. सुभाषित सिखाए जाते है. संस्कृत श्‍लोक सिखाए जाते है. २०१२ के ग्रीष्म में ऐसे संस्कार वर्गो की नागपुर की संख्या १२८ थी. इन वर्गो में श्‍लोक पठन, और कथाकथन की स्पर्धाए भी होती है.
४) स्वावलंबन : महिलाओं को आर्थिक दृष्टि से सबल बनाने की दृष्टि से उनके बचत समूह बनाए जाते है. अनेक स्थानों पर सिलाई केंद्र शुरु कर सिलाई काम सिखाया जाता है. योग्य सलाह भी दी जाती है. नागपुर में एक ‘मातृशक्ति कल्याण केंद्र’ है. उसके द्वारा सेवाबस्ती में – बोलचाल की भाषा में कहे तो झोपडपट्टियों में, किसी मंदिर या घर का बाहरी हिस्सा किराए से लेकर बालवाडी चलाई जाती है. बस्ती की ८ वी या ९ वी पढ़ी युवती ही उस बालवाडी में शिक्षिका होती है. ग्रीष्म की छुट्टियों में उनके लिए १५ दिनों का प्रशिक्षण वर्ग लिया जाता है. इस केंद्र का एक, ‘नारी सुरक्षा प्रकोष्ठ’ भी है. यह प्रकोष्ठ निराधार, परित्यक्ता य संकटग्रस्त महिलाओं को आधार देने, उनके निवास और भोजन की व्यवस्था करने, तथा उन्हें कानूनी सहायता देने का काम करता है. इसी प्रकार यह संस्था दो गर्भसंस्कार केन्द्र भी चलाती है.
५) ग्राम विकास : विदर्भ में किसानों की आत्महत्या का गंभीर प्रश्‍न है. हाल ही में केंद्रीय कृषि मंत्री ने संसद में बताया कि, अप्रेल से जनवरी इन १० माह में विदर्भ में २२८ किसानों ने आत्महत्या की है. किसानों के हित के लिए ‘सेवा भारती’ की ओर से भी काम चल रहा है. किसानों को जैविक खेती का महत्त्व समझाया जाता है. जलसंधारण की तकनीक समझाई जाती है. गौवंश रक्षा और गौपालन पर जोर दिया जाता है. गाय से मिलने वाले पंचगव्य से अनेक दवाईयॉं बनाने के प्रकल्प, नागपुर जिले में देवलापार और अकोला जिले में म्हैसपुर में है. वहॉं बनाई जाने वाली औषधियॉं मान्यता प्राप्त है और उनकी बिक्री भी बढ़ रही है. यवतमाल जिले की यवतमाल-पांढरकवडा इन दो तहसिलों में, दीनदयाल बहुउद्देशीय मंडल ने ६० गॉंव चुनकर उनमें के हर गॉंव के चुने हुए १५ – २० किसानों को जैविक खेती का प्रशिक्षण दिया है. तथा कपास तथा ज्वार के जैविक बीज भी उन्हें दिये है.
६) विपत्ति निवारण : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा प्रवर्तित जनकल्याण समिति ने मतलब उसके कार्यकर्ताओं ने मतलब संघ के स्वयंसेवकों ने, बाढ़, आग, भूकंप जैसी दैवी आपत्तियों के समय, अपने प्राण खतरे में डालकर भी, आपत्पीडितों की सहायता की है. संघ के स्वयंसेवकों का यह एक स्वभाव ही बन गया है कि, संकट के समय अपने बंधुओं की रक्षा के लिए दौडकर जाना. कोई भी प्रान्त ले, सर्वत्र सबको यह एक ही अनुभव आता है.

अन्य कार्य
अनचाहे, छोड़ दिये अर्भकों को संभालने का काम जैसे शंकर पापळकर का प्रकल्प कर रहा है, वैसा ही काम यवतमाल के ज्येष्ठ संघ कार्यकर्ता स्वर्गीय बाबाजी दाते ने शुरु किया था. उनकी संस्था का नाम है ‘मायापाखर’. फिलहाल इस ‘मायापाखर’में ४ लड़के और १४ लड़कियॉं है. अनेक स्थानों पर स्वयंसेवक वृद्धाश्रम भी चला रहे है.

इस सेवाभारती के उपक्रम का उद्दिष्ट क्या है? उद्दिष्ट एक ही है कि सबको, हम समाज के एक घटक है, ऐसा लगे. उनके बीच समरसता उत्पन्न हो. सबको हम एक राष्ट्र के घटक है, इसलिए हम सब एकात्म है ऐसा अनुभव हो. इस प्रकार यह सही में राष्ट्रीय कार्य है. संघ के शिबिरों में प्रशिक्षण लेकर स्वयंसेवक इस मनेावृत्ति से अपने जीवन का विस्तार कर उसे वैसा ही बनाते है. हमारे गृहमंत्री को, माननीय शिंदे साहब को, इस निमित्त यह बताना है कि, संघ के शिबिर में एकात्म, एकरस, एकसंध राष्ट्रीयत्व की शिक्षा दी जाती है. आतंकवाद नहीं सिखाया जाता. कृपा कर पुन: अपनी जुबान न फिसलने दे और किसी संकुचित सियासी स्वार्थ के लिए बेलगाम वचनों से उसे गंदी न करे.

– मा. गो. वैद्य
(अनुवाद : विकास कुलकर्णी)
babujivaidya@gmail.com

Veer Savarkar – A legend of world history

Swatantryaveer Vinayak Damodar Savarkar – The very name epitomises many great qualities of head and heart. Rarely in the history of the world has one single man combined so many qualities at one and the same time and all have blossomed so outstandingly. An intrepid armed revolutionary of the freedom struggle, a social reformer, a great poet, an outstanding litterateur, a dramatist par excellence, and a ceaseless crusader of Hindutva – truly a galaxy of virtues blended in a lovely rainbow.

His demise on 26th February 1966 was unique, for he died through Prayopaveshan, death by his own wish. In his death, he was a man who had seen most of his life mission fulfilled Physically, he took the last bow on the worlds stage, but his thoughts, the philosophy which he so intensely propounded and untiringly; propagated are immortal and continue to be a beacon to the beleaguered Hindu society.

If in the History of modern India, there was any leader who neither pursued fame nor followed fortune, nor individual greatness, discarding national interests, national integrity and national honour, that great leader was SAVARKAR and as such he would carry influence with posterity. As he was not a party to the vivisection of India, which is a heritage of sorrow and disgrace to posterity and the greatest betrayal ever known in Indian history Savarkar, one of the makers of modern India would be a beacon of hope, guidance’ inspiration and courage.

Veer Savarkar - A legend of world history

Veer Savarkar – A legend of world history


_____

Veer Savarkar – A legend

· The first political leader to daringly set Absolute Political Independence as India’s goal (1900).
· The first Indian political leader to daringly perform a bonfire of foreign (English) clothes (1905).
· The first Indian to organize a revolutionary movement for India’s Independence on an international level (1906).
· The first Indian law student who was not called to the English Bar despite having passed his examination and observed the necessary formalities, for his activities to seek India’s freedom from the British (1909).
· The only Indian leader whose arrest in London caused legal difficulties for British Courts and whose case is still referred to in the interpretations of the Fugitive Offenders Act and the Habeas Corpus (Rex Vs Governor of Brixton Prison, ex-parte Savarkar)
· The first Indian historian whose book on the 1857 War of Independence was proscribed by British Authorities in India even before its publication. The Governor General had asked the Postmaster General to confiscate copies of the book six months before the book were officially banned (1909).
· The first political prisoner whose daring escape and arrest on French soil became a cause celebre in the International Court of Justice at The Hague. This case was mentioned in many International Treaties at that time (1910).
· The first graduate whose degree was withdrawn by an Indian University for striving for India’s freedom (1911).
· The first poet in the world who, deprived of pen and paper, composed his poems and then wrote them on the prison walls with thorns and nails, memorized ten thousand lines of his poetry for years and later transmitted them to India through his fellow-prisoners who also memorized these lines.
· The first revolutionary leader who within less than 10 years gave a death-blow to the practice of untouchability in the remote district of Ratnagiri while being interned there.
· The first Indian leader who successfully started –

· A Ganeshotsava open to all Hindus including ex-untouchables (1930).
· Interdining ceremonies of all Hindus including ex-untouchables (1931).
· “Patitpavan Mandir”, open to all Hindus including ex-untouchables (22 February 1931).
· A cafe open to all Hindus including ex-untouchables (01 May 1933).

· The first political prisoner in the world who was sentenced to Transportation for Life twice, a sentence unparalleled in the history of the British Empire.
· The first political leader to embrace death voluntarily by way of Atma Samarpan in the highest tradition of Yoga (1966).

Chronology of the Events in Veer Savarkar’s Life

savarkar

28 May 1883 – Born in Bhagur, a tiny village in Dist. Nasik, Maharashtra

1892 – Lost his mother Radhabai

1898 – Took an oath before the family deity to conduct armed revolt against British Rule

09 Sep 1898 – Lost his father Damodarpant

01 Jan 1900 – Founded Mitra Mela, a secret revolutionary society

01 Mar 1901 – Married Yamuna (Mai)

19 Dec 1901 – Passed Matriculation examination

24 Jan 1902 – Joined Fergusson College, Pune

May 1904 – Founded Abhinav Bharat – A revolutionary organisation

Nov 1905 – Organised the first public bonfire of foreign clothes in Pune

Dec 1905 – Passed B.A. examination

June 1906 – Left for London

10 May 1907 – Celebrated Golden Jubilee of Indian War of Independence 1857 in London

June 1907 – Wrote the book “Joseph Mazzini” which was later published by
Babarao Savarkar

1908 – Wrote ‘Indian War of Independence 1857’. It was secretly published in Holland

May 1909 – Passed Bar-at-Law examination, but granting of permission to practice was denied

01 July 1909 – Madanlal Dhingra shot dead Curzon Wyllie in London

24 Oct 1909 – Vijayadashmi celebrated under the Chairmanship of Gandhi at India House, London

13 Mar 1910 – Arrested on arrival in London from Paris

08 Jul 1910 – Epic escape through the port hole of SS Morea while being taken to India

24 Dec 1910 – Awarded Transportation for Life

31 Jan 1911 – Awarded Transportation for Life for the second time, the only person in the history of the British Empire to have received it twice

04 Jul 1911 – Entered the Cellular Jail, Andamans

April 1919 – Yesuvahini, the wife of his elder brother passed away

21 May 1921 – Both brothers brought back to the Indian mainland

1921-1923 – Lodged at Alipore and Ratnagiri Jails

06 Jan 1924 – Released from Yerawada Prison and interned in Ratnagiri on condition that he would not participate in politics

07 Jan 1925 – Daughter Prabhat was born

10 Jan 1925 – A new weekly “Shraddhanand” launched in memory of Swami Shraddhanandji of Arya Samaj

01 Mar 1927 – Gandhi called on Savarkar at Ratnagiri

17 Mar 1928 – Son Vishwas was born

16 Nov 1930 – Oganized inter-caste dining, including the then untouchable commonities, for the first time in India as a part of social reform campaign

25 Feb 1931 – Instrumental in establishment of Patitpavan Mandir where all the Hindus could perform the Pooja.

25 Feb 1931 – Presided over Bombay Presidency Untouchability Eradication Conference.

26 Apr 1931 – Chairman of the Somvanshi Mahar Parishad in the premises of Patitpavan Mandir

17 Sep 1931 – Arranged programmes such as keertan by a person belonging to the bhangi caste, interdining of 75 ladies as a part of social reform campaign

22 Sep 1931 – Prince of Nepal, Hem Bahadur Samsher Singh called on Savarkar

10 May 1937 – Unconditional release from internment at Ratnagiri

10 Dec 1937 – Elected as President of Akhil Bharat Hindu Mahasabha at its 19th Session at Karnavati (Ahmedabad) and continued to be re-elected President for the next seven years

15 Apr 1938 – Elected as President of Marathi Sahitya Sammelan

01 Feb 1939 – Started unarmed resistance against the Nizam of Bhaganagar (Hyderabad)

22 Jun 1941 – Netaji Subhas Chandra Bose called on Savarkar

25 Dec 1941 – Bhagalpur struggle

May 1943 – Public felicitations on the occasion of 61st birth anniversary

14 Aug 1943 – University of Nagpur conferred Honorary D.Litt. on Savarkar

05 Nov 1943 – Elected president of Marathi Natya Sammelan at Sangli

16 Mar 1945 – Elder brother Babarao passed away
19 Apr 1945 – Presided over All India Princely States Hindu Sabha Conference at Baroda (Gujarat)

08 May 1945 – Daughter Prabhat married at Pune

Apr 1946 – Bombay Government lifted ban on Savarkar’s literature

15 Aug 1947 – Hoisted both Bhagwa and Tricolour Flags on Savarkar Sadanto celebrate India’s independence

05 Feb 1948 – Arrested under the Preventive Detention Act after Gandhi’s murder

10 Feb 1949 – Acquitted in Gandhi Murder Trial

19 Oct 1949 – Youngest brother Dr. Narayanrao Savarkar passed away

Dec 1949 – Inaugurated Calcutta session of the Akhil Bharat Hindu Mahasabha

04 Apr 1950 – Was arrested and detained in Belgaum jail on the eve of arrival of Pakistani Prime Minister Liaquat Ali in Delhi

May 1952 – Public function held at Pune to announce the dissolution of Abhinav Bharat, the revolutionary society having achieved its aim of freeing India

Feb 1955 – Presided over Silver Jubilee celebrations of Patitpavan Mandir at Ratnagiri

23 Jul 1955 – Was the Chief Speaker at Lokmanya Tilak Centenary Celebrations in Pune

10 Nov 1957 – Main speaker at the Centenary Celebrations of the Indian War of Independence 1857 held in New Delhi

28 May 1958 – Accorded a civic reception by Greater Bombay Municipal Corporation on the occasion of his Diamond Jubilee

08 Oct 1959 – University of Pune conferred honorary D. Litt. at his residence

24 Dec 1960 – Mrityunjay Divas celebration – a day set down for the release
of Savarkar after completing the sentences of two Transportation for Life

15 Apr 1962 – Sri Prakash, Governor of Bombay called upon Savarkar at his residence to pay his respects

29 May 1963 – Hospitalized for a fracture in the leg

08 Nov 1963 – Savarkar’s wife Yamuna passed away

Sep 1965 – Taken seriously ill

01 Feb 1966 – Takes a decision to fast unto death

26 Feb 1966 – 10.30 a.m., at the age of 83, Savarkar left his mortal coil

27 Feb 1966 – Cremation at the electric crematorium, the final salute given by 2500 uniformed swayamsevaks of the RSS and millions of admirers across the country

Rail budget a complete presentation.

रेल बजट – कुछ क्लास के बढ़े रिजर्वेशन चार्ज
नई दिल्ली, 26 फरवरी (हि.स.)। रेल मंत्री पवन कुमार बंसल ने अपने पहले रेल बजट में एक तरफ किराये की बढ्ढोत्तरी नहीं की। वहीं दूसरी तरफ रेल बजट में रेलगाड़ियों के यात्री किरायों पर लागू आरक्षण शुल्क, तत्काल शुल्क, टिकट कैंसिलेशन चार्ज और सुपरफास्ट सरचार्ज में बढ्ढोत्तरी की है।
–आरक्षण चार्ज —
-दूसरे दर्जे का मौजूदा आरक्षण चार्ज 15 रुपये आगे भी 15 रुपये ही रहेगा।
-स्लीपर क्लास का मौजूदा चार्ज 20 रुपये आगे भी 20 रुपये ही रहेगा।
-एसी चेयर कार का मौजूदा चार्ज 25 रुपये आगे से 40 रुपये लगेगा।
-एसी 3 इकॉनॉमी का मौजूदा चार्ज 25 रुपये आगे से 40 रुपये लगेगा।
-एसी 3 टियर का मौजूदा चार्ज 25 रुपये आगे से 40 रुपये लगेगा।
-फर्स्ट क्लास का मौजूदा चार्ज 25 रुपये आगे से 50 रुपये लगेगा।
-एसी 2 टियर का मौजूदा चार्ज 25 रुपये आगे से 50 रुपये लगेगा।
-एसी फर्स्ट क्लास का मौजूदा चार्ज 35 रुपये आगे से 60 रुपये लगेगा।
-एक्जीक्यूटिव क्लास का मौजूदा चार्ज 35 रुपये आगे से 60 रुपये लगेगा।
— प्रस्तावित सुपरफास्ट चार्ज–
-दूसरे दर्जे का मौजूदा आरक्षण चार्ज 10 रुपये आगे से 15 रुपये लगेगा।
-स्लीपर क्लास का मौजूदा चार्ज 20 रुपये आगे से 30 रुपये लगेगा।
-एसी चेयर कार का मौजूदा चार्ज 30 रुपये आगे से 35 रुपये लगेगा।
-एसी 3 इकॉनॉमी का मौजूदा चार्ज 30 रुपये आगे से 45 रुपये लगेगा।
-एसी 3 टियर का मौजूदा चार्ज 30 रुपये आगे से 45 रुपये लगेगा।
-फर्स्ट क्लास का मौजूदा चार्ज 30 रुपये आगे से 45 रुपये लगेगा।
-एसी 2 टियर का मौजूदा चार्ज 30 रुपये आगे से 45 रुपये लगेगा।
-एसी फर्स्ट क्लास का मौजूदा चार्ज 50 रुपये आगे से 75 रुपये लगेगा।
-एक्जीक्यूटिव क्लास का मौजूदा चार्ज 50 रुपये आगे से 75 रुपये लगेगा।
— टिकट रद्द कराने के चार्ज–
रिजर्व दूसरा दर्जा-मौजूदा 20 रुपए-नया 30 रुपए
स्लीपर क्लास-मौजूदा 40 रुपए-नया 60 रुपए
एसी चेयर कार -मौजूदा 60 रुपए-नया 90 रुपए
एसी 3 इकॉनॉमी-मौजूदा 60 रुपए-नया 90 रुपए
एसी 3 टियर-मौजूदा 60 रुपएदृनया 90 रुपए
एसी 2 टियर-मौजूदा 60 रुपए-नया 100 रुपए
एसी फर्स्ट -मौजूदा 70 रुपए-नया 120 रुपए
एक्जीक्यूटिव-मौजूदा 70 रुपए-नया 120 रुपए
–वेटिंग लिस्ट और आरएसी टिकट रदद् कराने का चार्ज–
रिजर्व दूसरा दर्जा-मौजूदा 10 रुपए-नया 15 रुपए
स्लीपर क्लास-मौजूदा 20 रुपए-नया 30 रुपए
एसी चेयर कार-मौजूदा 20 रुपए- नया 30 रुपए
एसी 3 इकॉनॉमी-मौजूदा 20 रुपएदृनया 30 रुपए
एसी 3 टियर-मौजूदा 20 रुपए-नया 30 रुपए
एसी 2 टियर-मौजूदा 20 रुपए- नया 30 रुपए
एसी फर्स्ट-मौजूदा 20 रुपए-नया 30 रुपए
एक्जीक्यूटिव-मौजूदा 20 रुपए-नया 30 रुपए
–तत्काल टिकट के अतिरिक्त चार्ज–
रिजर्व दूसरा दर्जा-मौजूदा 10 रुपए-नया 10 रुपए
स्लीपर क्लास-मौजूदा 75 रुपए-नया 90 रुपए से 175 रुपए तक
एसी चेयर कार-मौजूदा 75 रुपए-नया 100 से 150 रुपए तक
एसी 3 टियर-मौजूदा 200 रुपए-नया 250 से 300 रुपए तक
एसी 2 टियर-मौजूदा 200 रुपए-नया 300 से 400 रुपए तक
एक्जीक्यूटिव क्लास-मौजूदा 200 रुपए-नया 300 से 400 रुपए तक
हिन्दुस्थान समाचार/ 26.02.2013/कौशल
रेल मंत्री ने किया 67 एक्सप्रेस और 27 नए पैसेंजर ट्रेनों की घोषणा
नई दिल्ली , 26 फरवरी (हि.स.)। रेल मंत्री पवन कुमार बंसल ने मंगलवार को लोकसभा में अपना पहला रेल बजट पेश किया। उन्होंने रेल बजट 2013-14 में 67 नई एक्सप्रेस और 27 नई पैसेंजर ट्रेनें चलाने की घोषणा की। पांच मेमू और आठ डेमू ट्रेनों को भी चलाने का ऐलान रेल मंत्री ने किया।
इसके अलावा, मुंबई लोकल में एसी कोच लगाए जाने, 24 पैंसेजर ट्रेनों के फेरे बढ़ाने व 57 पैसेंजर ट्रेनों की दूरी बढ़ाई जाने की घोषणा की गई है। वहीं कोलकाता में दमदम से लेकर मोपारा तक मेट्रो ट्रेन का काम मार्च 2013 तक पूरा कर लिया जाएगा। वित्त वर्ष 2014 में 500 किलोमीटर नई लाइन बिछाई जाएगी और 750 किलोमीटर ट्रैक डबल होंगे। कोलकाता और मुंबई में एसी ईएमयू ट्रेनें चलाई जाएंगी। कोलकाता में 80 और चेन्नई में 30 ट्रेनों में डिब्बों की संख्या बढ़ाई जाएगी।
घोषित नई एक्सप्रेस ट्रेनों की सूची–
1. अहमदाबाद-जोधपुर एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया समदड़ी, भिलड़ी
2. अजनी (नागपुर) -लोकमान्य तिलक (टी) एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया हिंगोली
3. अमृतसर-लालकुआं एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया चंडीगढ़
4. बांद्रा टर्मिनल-रामनगर एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया नागदा, मथुरा, कानपुर,
लखनऊ, रामपुर
5. बांद्रा टर्मिनल-जैसलमेर एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया मारवाड़, जोधपुर
6. बांद्रा टर्मिनल-हिसार एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया अहमदाबाद, पालनपुर, मारवाड़,
जोधपुर, डेगाना
7. बांद्रा टर्मिनल-हरिद्वार एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया वलसाड
8. बेंगलूरू-मंगलोर एक्सप्रेस (साप्ताहिक)
9. बठिंडा-जम्मूतवी एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया पिटयाला, राजपुरा
10. भुवनेश्वर-हज़रत निजामुद्दीन एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया संबलपुर
11. बीकानेर-चेन्नई एसी एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया जयपुर, सवाईमाधोपुर, नागदा,
भोपाल, नागपुर
12. चंडीगढ़-अमृतसर इंटरिसटी एक्सप्रेस (दैनिक) वाया साहिबजादा अजीत सिंह नगर
(मोहाली), लुधियाना
13. चेन्नई-करईकुडी एक्सप्रेस (साप्ताहिक)
14. चेन्नई-पलनी एक्सप्रेस (दैनिक) वाया जोलारपेट्टै, सेलम, करूर, नामक्कल
15. चेन्नई एग्मोर-तंजावूर एक्सप्रेस (दैनिक) वाया विलुपुरम, मइलादुतुरै
16. चेन्नई-नागरसोल (साई नगर शिरडी के लिए) एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया रेणिगुंटा,
धोने, काचेगुडा
17. चेन्नई-वेलनकन्नी लिंक एक्सप्रेस (दैनिक) वाया विलुपुरम, मइलादुतुरै, तिरूवरूर
18. कोयंबतूर-मन्नारगुडी एक्सप्रेस (दैनिक) वाया तिरूचिरापल्ली, तंजावूर, निदामंगलम
19. कोयंबतूर-रामेश्वरम एक्सप्रेस (साप्ताहिक)
20. दिल्ली -फिरोज़पुर इंटरिसटी एक्सप्रेस (दैनिक) वाया बठिंडा
21. दिल्ली सराय रोहिल्ला-सीकर एक्सप्रेस (साप्ताह में दो दिन) आमान परिवर्तन के
बाद
22. दिल्ली-होशियारपुर एक्सप्रेस (साप्ताहिक)
23. दुर्ग-जयपुर एक्सप्रेस (साप्ताहिक)
24. गांधीधाम-विशाखापट्नम एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया अहमदाबाद, वर्धा,
बल्लारशाह, विजयवाड़ा
25. हजरत निजामुद्दीन-मुंबई एसी एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया भोपाल, खंडवा, भुसावल
26. हावड़ा-चेन्नई एसी एक्सप्रेस (सप्ताह में दो दिन) वाया भिक, दुव्वादा, गुडूर
27. हावड़ा-न्यू जलपाईगुडी एसी एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया मालदा टाऊन
28. हुबली-मुंबई एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया मिरज, पुणे
29. इंदौर-चंडीगढ़ एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया देवास, उज्जैन, गुना, ग्वालियर, हज़रत
निजामुद्दीन
30. जबलपुर-यशवंतपुर एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया नागपुर, धमार्वरम
31. जयपुर-लखनऊ एक्सप्रेस (सप्ताह में तीन दिन) वाया बांदीकुई, मथुरा, कानपुर
32. जयपुर-अलवर एक्सप्रेस (दैनिक)
33. जोधपुर-जयपुर एक्सप्रेस (दैनिक) वाया फुलेरा
34. जोधपुर-कामाख्या (गुवाहाटी) एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया डेगाना, रतनगढ़
35. काकीनाडा-मुंबई एक्सप्रेस (सप्ताह में दो दिन)
36. कालका-साई नगर शिरडी एक्सप्रेस (सप्ताह में दो दिन) वाया हज़रत निजामुद्दीन,
भोपाल, इटारसी
37. कामाख्या (गुवाहाटी)-आनंद विहार एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया कटिहार, बरौनी,
सीतापुर कैण्ट, मुरादाबाद
38. कामाख्या (गुवाहाटी)-बेंगलुरु एसी एक्सप्रेस (साप्ताहिक)
39. कानपुर-आनंद विहार एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया फर्रूखाबाद
40. कटिहार-हावड़ा एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया मालदा टाऊन
41. कटरा-कालका एक्सप्रेस (सप्ताह में दो दिन) वाया मोरिन्डा
42. कोलकाता-आगरा एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया अमेठी, रायबरेली, मथुरा
43. कोलकाता-सीतामढ़ी एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया झाझा, बरौनी, दरभंगा
44. कोटा-जम्मूतवी एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया मथुरा, पलवल
45. कुनूर्ल टाऊन-सिकंदराबाद एक्सप्रेस (दैनिक)
46. लोकमान्य तिलक (टी)-कोचुवेली एक्सप्रेस (साप्ताहिक)
47. लखनऊ-वाराणसी एक्सप्रेस (सप्ताह में 6 दिन) वाया रायबरेली
48. मडगांव-मंगलोर इंटरिसटी एक्सप्रेस (दैनिक) वाया उडुपी, करवार
49. मंगलोर-काचेगुडा एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया धोने, गूत्ती, रेणिगुंटा, कोयंबतूर
50. मऊ-आनंद विहार एक्सप्रेस (सप्ताह में 2 दिन)
51. मुंबई-सोलापुर एक्सप्रेस (सप्ताह में 6 दिन) वाया पुणे
52. नागरकोइल-बेंगलुरु एक्सप्रेस (दैनिक) वाया मदुरै, तिरुचिरापल्ली
53. नई दिल्ली-कटरा एसी एक्सप्रेस (सप्ताह में 6 दिन)
54. निजामाबाद-लोकमान्य तिलक (टी) एक्सप्रेस (साप्ताहिक)
55. पटना-सासाराम इंटरिसटी एक्सप्रेस (दैनिक) वाया आरा
56. पाटलीपुत्र (पटना)-बेंगलुरु एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया छिवकी
57. पुडुचेरी-कन्याकुमारी एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया विल्लुपुरम, मइलादुतुरै,
तिरुचिरापल्ली
58. पुरी-साई नगर शिरडी एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया संबलपुर, टिटलागढ़, रायपुर,
नागपुर, भुसावल
59. पुरी-अजमेर एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया आबू-रोड
60. राधिकापुर-आनंद विहार लिंक एक्सप्रेस (दैनिक)
61. राजेन्द्र नगर टर्मिनल (पटना)-न्यू तिनसुकिया एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया
कटिहार, गुवाहाटी
62. तिरुपति-पुडुचेरी एक्सप्रेस (साप्ताहिक)
63. तिरुपति-भुवनेश्वर एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया विशाखापट्नम
64. ऊना/नंगल डैम-हजूर साहेब नांदेड़ एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया आनंदपुर साहिब,
मोरिंडा, चंडीगढ़, अंबाला
65. विशाखापट्नम-जोधपुर एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया टिटलागढ़, रायपुर
66. विशाखापट्नम-कोल्लम एक्सप्रेस (साप्ताहिक)
67. यशवंतपुर-लखनऊ एक्सप्रेस (साप्ताहिक) वाया राय-बरेली, प्रतापगढ़
एक्सप्रेस ट्रेनों की सूचीः
नई पैसेंजर ट्रेनों सूची–
1. बिठंडा-धुरी पैसेंजर (दैनिक)
2. बीकानेर-रतनगढ़ पैसेंजर (दैनिक)
3. भावनगर-पिलटाना पैसेंजर (दैनिक)
4. भावनगर-सुरेन्द्र नगर पैसेंजर (दैनिक)
5. बरेली-लालकुआं पैसेंजर (दैनिक)
6. छपरा-थावे पैसेंजर (दैनिक)
7. लोहारू-सीकर पैसेंजर (दैनिक) आमान परिवर्तन के बाद
8. मडगांव-रत्नागिरी पैसेंजर (दैनिक)
9. मारिकुप्पम-बेंगलुरु पैसेंजर (दैनिक)
10. मुजफ्फरपुर-सीतामढ़ी पैसेंजर (दैनिक) वाया रून्नी सैदपुर
11. नादियाड़-मोडासा पैसेंजर (सप्ताह में 6 दिन)
12. नांदियाल-कुर्नूल टाऊन पैसेंजर (दैनिक)
13. न्यू अमरावती-नारखेड़ पैसेंजर (दैनिक)
14. पुनलूर-कोल्लम पैसेंजर (दैनिक)
15. पूर्णा-परली वैजनाथ पैसेंजर (दैनिक)
16. पलानी-तिरूचंदूर पैसेंजर (दैनिक)
17. रतनगढ़-सरदारशहर पैसेंजर (दैनिक) आमान परिवर्तन के बाद
18. समस्तीपुर-बनमनखी पैसेंजर वाया सहरसा, मधेपुरा (दैनिक) आमान परिवर्तन के
बाद
19. शोरानूर-कोजीकोडे पैसेंजर (दैनिक)
20. सुरेंद्र नगर-ध्रांगध्रा पैसेंजर (दैनिक)
21. सूरतगढ़-अनूपगढ़ पैसेंजर (दैनिक)
22. सोमनाथ-राजकोट पैसेंजर (दैनिक)
23. सीतामढ़ी-रक्सौल पैसेंजर (दैनिक)
24. श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़-सादुलपुर पैसेंजर (दैनिक) आमान परिवर्तन के बाद
25. तालगुप्पा-शिमोगा टाऊन पैसेंजर (दैनिक)
26. त्रिशूर-गुरुवायूर पैसेंजर (दैनिक)
हिन्दुस्थान समाचार/26.02.2013/कौशल
रेलेव क्रॉसिंग खत्म करने की तैयारी
नई दिल्ली, 26 फरवरी (हि.स.)। रेलवे बजट पेश करते हुए रेल मंत्री ने परिवर्तन की नई परिपाटी रखने की घोषणा की है। इसी क्रम में क्रासिंग पर सुरक्षा को देखते हुए उन्होंने लेव क्रासिंग खत्म करने की बात कही।
पवन कुमार बंसल ने कहा कि दिल्ली के अलावा सात और स्टेशनों पर आधुनिक यात्री सुविधा सिस्टम बनाया जाएगा और एक्जीक्यूटिव लाउंज बनेंगे। जम्मू से उधमपुर और अन्य जगहों के लिए रेल-बस टिकट की व्यवस्था होगी। रेल मंत्री ने लोकसभा में बताया कि इस साल 1007 मिलियटन टन माल ढुलाई का लक्ष्य है। भारतीय रेल उन देशों में शामिल हो गया जहां 10 हजार टन भार से ज्यादा की माल ढुलाई वाली ट्रेने चलती हैं। पूर्वी और पश्चिमी गलियारों के 2800 किमी के लिए जमीन अधिग्रहण किया जा चुका है। पूर्वी फ्रेट कारिडोर में 343 किमी कानपुर– खुर्जा सेक्शन पर काम शुरु हो गया है।
सुरक्षा के मुद्दें पर अहम कदम उठाते हुए रेल मंत्री ने कहा कि 12वीं योजना के दौरान हम ज्यादातर लेवल क्रासिंग को खत्म कर देंगे। आग रोकने के लिए पायलट आधार पर फायर एंड स्मोक डिटेक्शन सिस्टम लगाएंगे। सभी डिब्बों और गार्ड रूम में फायर फाइटिंग सिस्सटम लगाएंगे। वन क्षेत्रों में रेल पटरियों पर हाथियों की मौत रोकने के लिए कई कदम उठाए गए हैं। अनारक्षित टिकट प्रणाली के मजबूत करने केलिए टिकट वेंडिंग मशीनें लगाई जाएंगी। रेल में सवार यात्रियों से सपर्क स्थापित करने की कोशिश की जाएगी।
हिन्दुस्थान समाचार/26.02.2013/आकाश।
रेल बजट को लेकर हंगामा, लोकसभा स्थगित
नई दिल्ली, 26 फरवरी (हि.स.)। यूपीए-दो सरकार के अंतिम रेल बजट पेश करते समय रेलमंत्री पवन कुमार बंसल को आज लोकसभा में अड़चनों का सामना करना पड़ा। सरकार को बाहर से समर्थन दे रही समाजवादी पार्टी तथा विपक्षी दलों ने बजट पर विरोध जताते हुए भारी हंगामा किया। हंगामे के कारण रेलमंत्री अपना बजट भाषण भी पूरा नहीं पढ़ पाए।
रेल मंत्री पवन कुमार बंसल ने दोपहर 12 बजकर दस मिनट पर अपना रेल बजट भाषण शुरू किया, लेकिन एक बजकर 25 मिनट पर विपक्षी दलों के सदस्य बजट के खिलाफ नारेबाजी करते हुए आसन के समक्ष आ गए। बजट प्रस्तावों को वापस लिए जाने की मांग करते हुए उन्होंने जब लोकसभा अध्यक्ष के आसन तक विरोध जताया तक सदन को स्थगित करना पड़ा।
सरकार को बाहर से समर्थन दे रही समाजवादी पार्टी के सदस्यों तथा तृणमूल कांग्रेस, अन्नाद्रमुक और जनता दल यू सदस्य रेल बजट की घोषणाओं को अपर्याप्त बताया। अपने-अपने क्षेत्रों की उपेक्षा किए जाने का आरोप लगाते हुए सभी पार्टी ने अपना विरोध जताया। तृणमूल कांग्रेस के सदस्य रेल बजट के प्रस्तावों के खिलाफ नारेबाजी करते देखे गए। मामला काफी गर्म होता देख बंसल ने बजट भाषण रोक दिया तथा उनके बजट को सदन में पढ़ा माना जाये कह कर बैठ गये।
दूसरी ओर, मुख्य विपक्षी दल भाजपा तथा वाम मोर्चा सदस्य भी अपने स्थान पर खड़े होकर विरोध करते देखे गए। हंगामे के बीच बंसल ने रेल बजट भाषण पढ़ना जारी रखा, लेकिन कुछ ही मिनट बाद उन्होंने शेष बचे भाषण को सदन के पटल पर रख दिया। हंगामा थमते नहीं देख अध्यक्ष मीरा कुमार ने सदन की बैठक ढ़ाई बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया।
हिन्दुस्थान समाचार/26.02.2013/आकाश।
रेल बजट : खान पान की स्थिति सुधारने का भी दावा
नई दिल्ली, 26 फरवरी (हि.स.)। रेल मंत्री पवन कुमार बंसल ने रेलवे की सुविधा बढ़ाने के तहत भोज्य व्यवस्था पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा कि रेलवे में अत्याधूनिक किचन बनाया जायेगा जिससे सभी खान-पान के मामले में शुद्धता को बनाये रखा जा सके।
लोगों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए रेल मंत्री ने बताया कि अत्याधुनिक किचन योजना 18 जनवरी 2013 से केंद्रीय कृत निगरानी ने काम करना शुरू कर दिया है। जो खानपान से जुड़े शिकायतों पर कार्रवाई करता है। ऐसे में सभी ट्रेनों का औचक निरिक्षण कार्यक्रम भी तय किया जायेगा जिससे कोई गड़बड़ी होने की संभावना को भी समाप्त किया जा सके। इस तहर रेलवे परिवार का जनता को बेहतर भोजना उपलब्ध कराने का उद्देश्य भी पूरा होगा।
अपने रेल बजट भाषण में रेल मंत्री ने बेहतर भोजन के मामले पर रेल पेंट्री को भी उच्च स्तर का बनाने की बात कही। उन्होंने कहा कि सभी क्लास के यात्रियों के लिए केटरिंग की बेहतक व्यवस्था की जाएगी और बेस किचन बढ़ाए जाएंगे। सभी बेस किचन का आईएसओ सर्टिफिकेशन होगा, जो सीधे तौर पर यात्रियों की संतुष्टी और असंतुष्टी के पैमाने के आधार पर चलेगी। इसके अलावा, किचन सिस्टम में स्वास्थ्य को लेकर बेहतर फूड आब्जेक्ट को ही लोगों को परोसने का काम किया जायेगा।

हिन्दुस्थान समाचार/26.02.2013/आकाश।
धन की कमी रेलवे की विकास में बडी बाधा,नहीं बढेगा यात्री किराया
नई दिल्ली, 26 फरवरी (हि.स.)। रेल मंत्री बनने के बाद लगातार दो बार रेल यात्री किराया बढ़ा चुके रेल मंत्री पवन कुमार बंसल ने कहा कि रेलवे के विकास में धन की कमी बड़ी समस्या हैं। रेल मंत्री ने कहा कि रेल यात्री किराया में किसी प्रकार की बढोतरी नहीं होगी। बसंल ने सुरक्षा में और सफाई पर विशेष ध्यान देने की बात अपने रेज बजट भाषण में कही। उन्होंने कहा कि भारत की एकता में रेलवे का महत्पूर्ण योगदान है।
मंगलवार को लोकसभा में संप्रग का अंतिम रेल बजट पेश करते हुए बसंल ने कहा कि रेलवे के पास पैसे की बहुत कमी है। उन्होंने कहा कि पैसे के कम करण अनके बडे प्रोजेक्टों का काम सुस्त गति से से चल रहा है। उन्होंने कहा कि रेलवे 24 हजार 6 सौ करोड़ रूपये घाटे में चल रहा है। उन्होंने कहा कि 12वीं योजना में योजना आयोग ने रेलवे को 5.19 लाख करोड रूपये दिये है। बसंल ने इस वितीय वर्ष में रेलवे को 1.43 लाख करोड रूपये के आमदनी का अनुमान है।
रेलमंत्री ने कहा कि सुरक्षा हमारे लिए सबसे बडी चिंता है। उन्होंने कहा कि सुरक्षा पर अनिल काकोदर और सैम पित्रोदा आयोग के सुझाव को लागू किया गया है। कुंभ के दौरान इलाहाबाद स्टेशन पर हुई दुघर्टना अफसोस जताते हुए उन्होंने कहा कि पिछले दशक में रेल दुर्घटनाओं में कमी आई है। आग से सुरक्षा के लिए प्रोटक्टेशन ट्रेन बर्निंग प्रोटेक्शन सिस्टम लगाने की बात कही है। उन्होंने कहा कि रेलवे क्रासिंग पर हो रही दुर्घटनाएं चिंता की विषय है। रेलमंत्री ने कांजीगुडा और बारामुला के बीच रेल प्रोजेक्ट का पुरा करना हमारे लिये गर्व की बात है।
हिन्दुस्थान समाचार/26.0
2.2013/सत्येन्द्र।
चुनावी राज्यों में को दिये तोहफे
नई दिल्ली, 25 फरवरी (हि.स.) । कांग्रेस के पास रेलमंत्रालय लगभग 17 साल के बाद आया, इसका पूरा लाभ कांग्रेस ने उठाना चाहा। रेल मंत्री ने उन राज्यों का पूरा ख्याल रखा है, जहां कांग्रेस शासन में है और वे राज्य इस वर्ष के अंत में या अगले साल चुनाव विधानसभा चुनाव में जा रहें। रेलमंत्री ने इस साल चुनाव में जाने वाले राज्य राजस्थान के भीलवाड़ा में रेल फैक्ट्ररी लागने की घोषणा की है।
रेलमंत्री के लीरूट में राजस्थान ही एकमात्र कांग्रेस शासित राज्य नहीं है, हरियाणा को भी रेल फैक्ट्ररी को मिली। हरियाणा के सोनीपत में रेल फैक्टरी लगाने की घोषणा रेलमंत्री ने अपने बजट भाषण में की है। इसके साथ आन्ध्रप्रदेश के कन्नूर में भी रेल फैक्टरी लगाने की घोषणा रेलमंत्री ने इस बजट में की है।
बसंल ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को ध्यान में भी रखा है। बसंल ने उनके संसदीय क्षेत्र रायबरेली में रेल फैक्टरी और पहिया बनाने का करखाना लगाने की घोषणा की है।
हिन्दुस्थान समाचार/26.02.2013/सत्येन्द्र
नहीं बढ़ा यात्री किराया, तत्काल व सरचार्ज के जरिए कटेगी जनता की जेब

नई दिल्ली, 26 फरवरी (हि.स.)। कुछ दिन पहले ही बढ़े यात्रा किराये के बाद आज रेल मंत्री ने रेल बजट पेश करते हुए किराया नहीं बढ़ाने की बात कही है। उन्होंने कहा का रेलवे के घाटे को देखते हुए किराया बढ़ाया जाना काफी जरुरी है, इसके बावजूद सरकार लोगों की समस्याओं को समझते हुए किराया नहीं बढ़ा रही है। पर रेलवे के घाटे की पूर्ति के लिए तत्काल, माल भाड़े व अन्य सरचार्ज में वृद्धि की गई है।
जनता की समस्याओं को समझने की बात करते हुए रेल मंत्री पवन कुमार बंसल ने अपने बजट भाषण को शायरी के जामे में लपेटने का करतब दिखाया। उन्होंने दुष्यंत कुमार का शेर कहते हुए कहा कि ‘सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं, शर्त ये है कि सूरत बदलनी चाहिए’। अपने शेर को पूरा करते हुए रेल मंत्री ने रेल किरायों में कोई बढ़ोतरी नहीं करने का ऐलान किया। साथ ही उन्होंने कहा कि रेल बजट के तहत यात्री किरायों में कोई फेरबदल नहीं किया गया है। हालांकि तत्काल और रिजर्वेशन शुल्क में बढ़ोतरी का प्रस्ताव है, साथ ही सुपरफास्ट चार्ज में बढ़ोतरी होगी।
हालांकि 22 जनवरी 2013 को बढ़ाए गए रेल किरायों पर रेल मंत्री पवन बंसल ने कहा कि किरायों में बढ़ोतरी को मुनाफे के रूप में नहीं देखना चाहिए। रेल मंत्रालय की एक स्वतंत्र रेल टैरिफ अथॉरिटी बनाए जाने की योजना है। तेल कीमतों में बढ़ोतरी से मालढुलाई भाड़ा औसतन 5 फीसदी बढ़ाया गया है। भले ही रेल किरायों में सीधे बढ़ोत्‍तरी की घोषणा नहीं की गई हो लेकिन ईंधन और बिजली घाटे के समायोजन के लिए हर ‌टिकट पर फ्यूल सरचार्ज लगाने की घोषणा ने जेब को जरुर निशाना बनाया है।
हिन्दुस्थान समाचार/26.02.2013/आकाश।
रेल मंत्री ने दिखायी महिला सुरक्षा पर प्रतिबद्धता, महिला आरपीएफ की होगी तैनाती
नई दिल्ली, 26 फरवरी (हि.स.)। रेलमंत्री पवन कुमार बंसल ने मंगलवार को रेल बजट पेश करते हुए महिला यात्रियों की सुरक्षा पर विशेष ध्यान दिया। साहित्यिक अंदाज में रेल बजट भाषण के दौरान कहा कि जब लोग सफर करते हैं तो रेल का इंजन कहता है, ‘मैं खींच सकता हूं… मैं कर सकता हूं।’ महिलाओं की सुरक्षा के बाबत उन्होंने कहा है कि रेलवे में महिलाओं की सुरक्षा के मद्देनजर हेल्पलाइन शुरू की जाएगी। साथ ही, यात्रियों की सुरक्षा के इंतजामात भी बढ़ाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि यह संभव नहीं है कि ट्रेनों के सभी डिब्बों में महिला कांस्टेबल की तैनाती हो सके, फिर भी यात्रियों की सुरक्षा को काफी हद तक पुख्ता बनाया जाएगा।
मंगलवार को अपना पहला बजट पेश कर रहे रेलमंत्री पवन बंसल ने कहा है कि ट्रेनों में महिलाओं के साथ कई घटनाएं हो चुकी हैं, ऐसे में उनकी सुरक्षा का ध्यान रखना लाजमी है। रेलमंत्री ने यह बात उस वक्त कही है जब देशभर में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर सरकार पर कई तरह के सवाल उठाए जा रहे हैं। अपने बजट भाषण के दौरान बंसल ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए रेलवे प्रोटैक्शन फोर्स में दस फीसदी पद पर महिलाओं के लिए आरक्षित करने की बात कही है। महिला सुरक्षा की बात करते हुए उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए आरपीएफ के चार कंपनियों की तैनाती की जायेगी। ऐसे में महिलाओं की समस्याओं को समझते तथा उनका जल्द निबटारा करने में आसानी होगी।
मालूम हो कि रेल बजट पेश करने से पहले उनकी पत्नी मंधु बंसल ने भी महिला यात्रियों की सुरक्षा को सबसे अहम मुद्दा बताया। उन्होंने महिला यात्रियों की सुरक्षा के लिए रेलवे द्वारा हेल्पलाइन नंबर जारी करने की बात कही थी। इसी पर शायद रेलमंत्री ने भी महिला हेल्पलाइन नंबर 180011321 को जल्द शुरु किये जाने की घोषणा कर दी। हालांकि रेल मंत्री की पत्नी मधु बंसल ने अपने पति का बचाव करते हुए कहा था कि मेरे पति को अभी यह मंत्रालय संभाले हुए सिर्फ चार महीने ही हुए है उन्हे समय देना चाहिए। पति के साथ-साथ उनके बेटे अमित बंसल ने भी महिलाओं की सुरक्षा के लिए हेल्पलाइन नंबर. शिकायतों पर फौरन ही सख्त कदम उठायें जाने की बात कही थी।
हिन्दुस्थान समाचार/26.02.2013/ऋषभ
रेल मंत्री की पत्नी ने की महिला हेल्पलाइन चलाने की मांग
नई दिल्ली, 26 फरवरी (हि.स.)। रेल मंत्री पवन कुमार बंसल की पत्नी मधु बंसल ने मंगलवार को कहा कि रेल मंत्रालय को महिला यात्रियों के लिए हेल्पलाइन की सुविधा शुरू करनी चाहिए। इससे महिलाएं किसी भी प्रकार की आपातकालीन स्थितियों में शिकायत दर्ज करा सकेंगी।
मधु बंसल का कहना है कि रेल मंत्री को पता है कि रेल बजट में किस प्रकार से जनता की सहूलियतों के रखा जाये। मधु ने कहा कि वह चाहती हैं कि रेलवे रेलगाड़ियों में सफाई और महिलाओं की सुरक्षा को सुनिश्चित करे। उन्होंने कहा, ‘मैं चंडीगढ़ और दिल्ली के बीच आमतौर पर सफर करती हूं और मुझे यात्रा सुरक्षित लगती है। मुझे लगता है कि रेलवे में महिलाओं के लिए एक हेल्पलाइन होनी चाहिए ताकि महिला यात्री परेशानी की स्थिति में शिकायत दर्ज करा सकें।’
बता दें कि महिला सुरक्षा को देखते हुए रेल मंत्री ने इसके लिए पुख्ता कदम उठाये हैं। रेल मंत्री ने महिला सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए महिला सीआरपीएफ की नियुक्ति तय की जायेगी। साथ ही महिला हेल्प भी नंबर 180011321 को शुरु किया जायेगा, जिससे महिलाएं दिक्कतों के समय पुलिस से संपर्क कर सकें।

हिन्दुस्थान समाचार/26.02.2013/आकाश।

नही बढ़ेगा यात्री किराया, एक नज़र रेल बजट पर
नई दिल्ली, 26 फरवरी (हि.स.)। केंद्रीय रेल मंत्री पवन कुमार बंसल ने मंगवार को रेल बजट पेश किया। इस बार के रेल बजट में सुरक्षा पर विशेष ध्यान दिया गया है। साथ ही यात्री किराया नहीं बढ़ाया गया है। इस रेल बजट के मुख्य अंश इस प्रकार है
* दिल्ली के तीन स्टेशनों पर 100 करोड़ रुपए खर्च किए गए।
* अब कोई नई अनमैन्ड क्रॉसिंग नहीं बनेगी।
* महिला रेल कर्मचारियों के लिए हॉस्टल की सुविधा होगी।
* रेलवे सुरक्षा कर्मियों के बैरकों की स्थिति में सुधार होगा।
* स्टाफ क्वॉर्टर पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत बनाए जाएंगे।
* पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के जरिए चंडीगढ़ में आधुनिक सिग्नलिंग सिस्टम लगाया जाएगा।
* डेढ़ लाख वेकेंसी भरने के लिए 60 शहरों में रेलवे रिक्रूटमेंट।
* सोनिया गांधी के चुनाव क्षेत्र राय बरेली में एक और फैक्ट्री लगाने का प्रस्ताव।
* लोकसभा में शोर-शराबा।
* रेलवे का फिजूल खर्च रोकने पर जोर।
* पैसा बचाना रेलवे का मकसद।
* 104 स्टेशनों पर और ज्यादा सुविधाएं दी जाएंगी।
* राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार पाने वालों को मिलेगा पास।
* रेल का कचला बेचकर 4500 करोड़ जुटाने का लक्ष्य।
* लोहे की खदानों को रेल से जोड़ने के लिए 800 करोड़।
* डिब्बों में आग रोकने के लिए उपाय हुए हैं।
* केरल में नई कोच फैक्टरी लगेगी।
* नागपुर में इलेक्ट्रनिक तकनीक सेंटर खुलेगा।
* 25 साल में पहली बार रेलवे ने ज्यादा पैसे नहीं मांगे।
* सोनीपत में लगेगी रेल फैक्टरी।
* डिब्बों में आग लगने से रोकने के उपाय हुए हैं। और ज्यादा स्मोक डिटेक्टर्स लगाए जाएंगे।
* सीनियर सिटीजन के लिए बड़े स्टेशनों पर 400 लिफ्ट लगेंगी।
* ओलिंपिक पदक विजेताओं और अर्जुन पुरस्कार विजेता खिलाड़ियों को प्रथम, द्वितीय श्रेणी एसी के टिकट दिए जाएंगे।
* अविवाहित शहीद सैनिकों के माता पिता को प्रथम, द्वितीय श्रेणी एसी के टिकट दिए जाएंगे।
* वैष्णोदेवी जाने के लिए रेल और बस कॉमन टिकट रखने का प्रस्ताव।
* कैटरिंग में प्लास्टिक का इस्तेमाल नहीं होगा।
* रायबरेली में एक और रेल फैक्टरी चलेगी।
* कुरनूल में भी रेल फैक्टरी लगेगी।
* तीन नई फैक्टरियां तीनों ही कांग्रेस शासित राज्यों में लगेंगी।
* रेलवे स्टाफ क्वार्टर निजी क्षेत्र के साथ मिलकर बनेंगे।
* 300 करोड़ से रेलवे क्वार्टर बनेंगे।
* ऑनलाइन बु‍किंग रात 11.30 बजे से 12.30 बजे तक ही बन्द रहेगी।
* नेक्स्ट जनरेशन ई टिकटिंग सिस्टम लागू होगा, जो एक मिनट में 7200 टिकट बुक कर सकता है। वर्तमान में यह संख्या 2000 टिकट प्रति मिनट ही है।
* साथ ही नए सिस्टम को एक साथ 1 लाख 20 हजार यूजर उपयोग कर पाएंगे। वर्तमान में यह संख्या 40 हजार है।
* ऑनलाइन बुकिंग 23 घंटे चालू।
* कालाहांडी, उड़ीसा में नए माल डिब्बा अनुरक्षण कारखाना प्रस्तावित।
* पीपीपी के जरिए माडर्न सिग्नलिंग उपस्कर सुविधा की व्यवस्था।
* रेलवे में आधार कार्ड का इस्तेमाल होगा।
* आधुनिक ई-टिकट सिस्टम लागू होगा।
* बड़ी ट्रेनों में शताब्दी और राजधानी ट्रेनों जैसा एक कोच लगाया जाएगा।
* खाने की क्वॉलिटी लगातार चेक करने के लिए एक सिस्टम बनाया जाएगा।
* काकोदकर, पित्रोदा कमिटी की सिफारिशों पर विचार होगा।
* बायो टॉइलट की संख्या बढ़ाई जाएगी।
* 12वीं पंचवर्षीय योजना में रेलवे को 5.19 लाख करोड़ रुपये मिले हैं।
* दुर्घटना हो तो एक सहायता ट्रेन तेजी से हादसे की जगह पहुंचे, इसका प्रस्ताव है।
* कुछ ट्रेनों में आधुनिक सुविधाओं वाला अनुभूति डिब्बा लगाया जाएगा।
* टिकट से जुड़ी सारी जानकारी SMS और फोन पर मिलेगी।
* चुनिंदा ट्रेनों में वाई फाई सुविधा देने का प्रस्ताव।
* बेहतर धुलाई के लिए 8-10 लॉन्ड्रियां बनेंगी।
* बारहवीं योजना में पीपीपी के जरिए एक लाख करोड़ रुपए के निवेश का लक्ष्य।
* आरक्षित टिकट वाले सभी यात्रियों के लिए पहचान पत्र अनिवार्य करने का प्रस्ताव।
* खाने की गुणवत्ता के ‍लिए रेल परिसरों में अत्याधुनिक बेस ‍किचन बनाने का प्रस्ताव।
* बिलासपुर, पटना, आगरा, विशाखापट्टनम, नागपुर, जयपुर, बेंगलुरू पर एक्जीक्यूटीव लांज शुरू करने का प्रस्ताव।
* आजादी एक्सप्रेस नाम से सस्ती शैक्षिक पर्यटक गाड़ी चलाने का प्रस्ताव
* भारतीय रेल इस वर्ष‍बिलियन टन के विशिष्ट क्लब में शामिल,
* इस वर्ष 1007 मिलियन टन का प्रारंभिक माल लदान होने का अनुमान।
* भारतीय रेल 10 हजार टन भार से अधिक की माल गाड़ी चलाने वाले देशों में शामिल।
* 60 और स्टेशनों को आदर्श स्टेशन बनाया जाएगा।
पूर्वी माल गलियारे में 343 किलोमीटर कानपुर-खुर्जा सेक्शन पर काम शुरू।
* मोबाइल फोनों के माध्यम से ई-टिकट बुक कराने का प्रस्ताव
* रियल टाइम सूचना प्रणाली के अंतर्गत अधिक से अधिक गाड़ियों को शामिल करने की योजना।
* ट्रेन प्रोटेक्शन वॉर्निंग सिस्टम को लागू करने की जरूरत
* स्मोक डिटेक्टर लगाएं जाएंगे।
* ‍महिलाओं की सुरक्षा पर जोर
* आरपीएफ में महिलाओं की 4 कं‍पनियां बनेंगी।
* रेल मंत्री ने गिनाई प्राथकिताएं…
* 6 रेल नीर प्लांट स्थापित किए जाएंगे, जिनमें छत्तीसगढ़ का बिलासपुर भी शामिल हैं।
* 6 नीर बॉ‍टलिंग प्लान्ट और लगाए जाएंगे।
वृद्ध लोगों के लिए बड़े स्टेशनों पर 179 एस्केलेटर और 400 लिफ्ट की व्यवस्था की जाएगी।
* विकलांग व्यक्तियों के लिए जेटीबीएस आरक्षित करने का प्रस्ताव।
* रेलवे में ट्रेनों की संख्या बढ़ाना या ट्रेन की लंबाई बढ़ाना पैसेंजर की सुरक्षा की कीमत पर नहीं हो। इस संदर्भ में उन्होंने दुष्यंत कुमार की पंक्तियों को उद्धृत किया – सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं
* ट्रेन प्रोडक्शन वर्निंग सिस्टम लागू
* आरपीएफ की भर्ती में महिलाओं को 10 फीसदी आरक्षण।
* कई रेलवे झोन में हेल्पलाइन नंबर दिए गए हैं।
* मैंने भी महसूस किया क‍ि साफ-सफाई बढ़ाने की जरूरत है।
* यात्री दुर्घटनाओं में कमी आई।
* हादसे ने संदेश दिया कि सुरक्षा और मजबूत करनी होगी।
* माल भाड़ा बढ़ाकर ही रेलवे का खर्चा निकाला जाता है।
* स्मोक डिटेक्टर सिस्टम ट्रेनों में लगाया जाएगा।
* रेलवे क्रॉसिंग पर हादसे रोकने के लिए 37 हजार करोड़ रुपए चाहिए।
* महिलाओं की सुरक्षा पर ज्यादा जोर।
* आरपीएफ की चार कंपनियां बनाईं गईं।
* रेलवे को 24000 करोड़ रुपए का घाटा।
* रेल दुर्घटनाओं को पूरी तरह रोकना है।
* रेलवे क्रॉसिंग पर हादसे चिंता की बात।
* रेलवे को वित्तीय रूप से समर्थ होना चाहिए।
* सुरक्षित यात्रा यात्रियों का अधिकार
* सुरक्षा बढ़ाने के लिए कई सुझाव मिले हैं।
* रेल की प्रगति देश की प्रगति
* रेलवे सेफ्टी फंड से काफी लाभ हुआ है।
* फंड की कमी से रेलवे के सामने एक बड़ी चुनौती।
* नई गाड़ियों की वजह से रेलवे का घाटा बढ़ा है।
* रेल मंत्रालय ने इलाहाबाद हादसे पर दुख जताया।
* वर्ष 2002 में 800 ट्रेनें थी जो 2011-2012 में बढ़कर करीब 12000 हो गईं।
* बीते 10 साल में करीब चार हजार ट्रेने चलाई।
* खर्चा बढ़ा इसलिए माल भाड़ा बढ़ाना पड़ा।
* देश के विकास में रेलवे की अहम भूमिका।
* रेलवे में सुधार के लिए हमें हर तरफ से सुझाव मिले।
* रेलवे को वित्तीय रूप से मजबूत बनाना चुनौती।
* रेल कर्मचारियों की मेहनत पर हमें गर्व हैं।
* रेलवे ने देश की एकता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
* उन्होंने कहा कि मेरे मन में मिली जुली भावनाएं हैं।
* पवन बंसल का बजट भाषण शुरू
* रेल मंत्री पवन बंसल ने पेश किया रेल बजट।
* संसद की कार्यवाही शुरू, कुछ ही क्षणों में पेश होगा रेल बजट।
* संसद भवन पहुंचे पवन बंसल, कुछ ही देर में पेश करेंगे रेल बजट।
* बंसल ने कहा, सुरक्षा पर होगा खास ध्यान।
* जानकारों का मानना है कि महंगे डीजल की आड़ में सेस या सरचार्ज लगाया जा सकता है।
* ऐसा माना जा रहा है कि सीधे रेल किराया बढ़ाने की घोषणा नहीं होगी।
* एक रुपए डीजल महंगा होने से 250 करोड़ का रेलवे पर बोझ।
* लगभग 10.10 बजे पर रेल भवन पहुंचे पवन बंसल।
* बंसल 17 साल बाद रेल बजट पेश करने वाले पहले मंत्री होंगे।
हिन्दुस्थान समाचार/26.02.2013/आकाश/अनूप
अब इंटरनेट पर होगी 23 घंटे बुकिंग : रेल मंत्री
नई दिल्ली, 26 फरवरी (हि.स.)। रेलमंत्री पवन कुमार बंसल ने अपने पहले रेल बजट में आईआरसीटीसी व ई-टिकटिंग बुकिंग के प्रावधानों में काफी परिवर्तन किया है। यात्री अब अपने मोबाईल से भी ई-टिकटिंग की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। बंसल ने आईआरसीटीसी की क्षमता को कई गुणा बढ़ाने की बात की है। इंटरनेट पर बुकिंग अब 23 घंटे की जाएगी। इसकी समय सीमा रात साढ़े 12 बजे से अगले दिन रात साढ़े 11 बजे तक होगी।
बंसल ने कहा कि टिकट की बिक्री को पारदर्शी बनाएगें।साथ ही टिकट बिक्रि के दौरान वाई-फाई की सुविधा दी जाएगी। इतना ही नहीं अब हर मिनट दो हजार टिकट की जगह 7200 टिकट बनेंगे। उन्होंने कहा कि इस साल के अंत तक ई-टिकट की नयी प्रणाली आ जाएगी।
हिन्दुस्थान समाचार/ 26.02.2013/कौशल
रेल बजट में फाटक से जुड़ी समस्या पर विशेष ध्यान

नई दिल्ली, 26 फरवरी(हि.स.)। रेल मंत्री पवन कुमार बंसल ने मंगलवार को पेश किये गये रेल बजट में रेलवे लाइन क्रासिंग से जुड़ी सुरक्षा पर विशेष ध्यान दिया है। उन्होंने कहा कि रेलवे फाटकों को समाप्त करने के अलावा क्रासिंग के दौरान होने वाली दुर्घटनाओं से निपटने का कोई और समाधान संभव नही है।
रेल मंत्री ने कहा कि रेल हादसे अधिकतर फाटकों पर होते हैं। उन्होंने कहा कि रेल यात्रा को दुर्घटनारहित बनाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। इसी क्रम में किये गये प्रयासों से यात्रियों की संख्या और माल ढुलाई में काफी वृद्धि हुई और हादसों में कमी आई है। रेलवे फाटक समाप्त करने को 37 हज़ार करोड़ रुपये चाहिए होंगे। भविष्य में कोई नया रेलवे फाटक नहीं बनाया जाएगा, बेहतर सिग्नल प्रणाली पर जोर दिया जाएगा

Shinde’s regret like parents giving candy to a sulking child….

Shinde’s regret like parents giving candy to a sulking child….

Author: Prashant Panday
Publication: The Times of India
Date: February 21, 2013
URL: http://blogs.timesofindia.indiatimes.com/the-real-truth/entry/shinde-s-regret-like-parents-giving-candy-to-a-sulking-child

Sushil Kumar Shinde’s “regret” (for his comments on saffron terror and the RSS/BJP’s involvement in cultivating terror outfits) means little. It’s just a way to appease a crying child by giving him a sugar candy. It’s what parents do all the time with their spoilt children; especially ahead of important events. It’s no different with Shinde, who expressed regret keeping the impending Parliamentary session in mind.

When parents give their sulking child a candy, they “temporarily” forgive the child’s tantrums. It does not mean that the child is right, or that the parents wrong. All that it means is that the wiser of the two – the parents – takes a larger view of things and focuses on the bigger picture. If there is an exam ahead, its important the child focuses on that. If there are guest coming home, its important the child doesn’t throw a tantrum at that time. The compulsions of the moment determine the parents’ course of action. It’s the exact same in this case. The Congress figures it will achieve more by withdrawing a bit now.

To be fair to Shinde, he never linked any particular religion to terror. By calling something “saffron terror”, he only pointed out that there are Hindu terrorists as well (in addition to all the other varieties). It was the exact equivalent of “Green terror”, which doesn’t mean that all Muslims are terrorists. Both descriptions are just a colorful way of understanding terrorism patterns. Shinde’s statement was correct – there surely are Hindu terrorists, just as there are Muslim terrorists. That does not mean he linked a particular religion to terror, even if the BJP thinks so. I don’t think the Shinde’s regret withdraws from that position of fact.

Hindu terror is a position of fact. So many arrests made recently – in cases ranging from the Samjhauta Express blasts to the Mecca Masjid bombing – link Hindu groups to terrorist activities. But I fail to understand why Hindus should get rankled with this. What’s so surprising that a few Hindus were caught indulging in terrorist activities? Is it anyone’s – except the BJP’s of course – hypothesis that Hindus simply cannot be terrorists? And if so, why? What is there in the Hindu religion (or for that matter, in any religion) that permits terrorism? It’s always the rogue elements who bring disrepute to a religion. Why can’t there be rogue elements amongst the Hindus? This is just political balderdash. Stray elements exist in all groupings, and Hindus are no different.

There may not be a linkage to any particular religion. But there surely is to a particular religious grouping – the sangh parivar. In several cases, the linkage with the sangh parivar been established. Several terrorists arrested for the above mentioned crimes are members or ex-members of one or the other outfit of the saffron parivar. The murderer (convicted) of Graham Staines, the Christian missionary working for the benefit of the poorest in Orissa, Dara Singh, was a Bajrang Dal activist. Swami Aseemanand, accused of masterminiding the Samjhauta Express blasts is a Hindu religious leader. This is what Wikipedia writes about him “Swami Aseemanand born as Jatin Chatterjee in West Bengal, joined the Vanvasi Kalyan Ashram, inspired by the Rashtriya Swayamsevak Sangh in 1978”. Lt. Col Purohit, also an accused in the same case is suspected to be a member of the Abhinav Bharat, another Hindu right wing outfit. The organization was first set up before independence by Veer Savarkar, and is currently headed by Savarkar’s grand-daughter, Himani Savarkar, who (Wikipedia mentions) is related to Nathuram Godse, the killer of Mahatma Gandhi. Abhinav Bharat has also been linked to the Malegaon blasts. Incidentally, Savarkar has been described as having extremely good relations with Hedgewar (the founder of RSS) and the two have been described as “two bodies with one heart”. So let’s not fool ourselves. RSS/Abhinav Bharat/Bajrang Dal….all have regrets of their own to offer to the country.

A regret by Shinde does not mean that he has absolved the sangh parivar of its involvement in terror ats. It is not meant to undo the truth. Shinde’s regret means little on the ground. It won’t stop the arrest of Hindu terrorists, if they are out there. It won’t stop the political fight on the basis of religious ideologies. It won’t stop the hangings of Hindus who are on the death row. The actions will continue as earlier. Whoever is involved will be punished. And that’s the way it should be in any country that believes in the rule of law.

In any case, now that the issue is behind us, let’s see what the BJP does. Does it allow Parliament to function? Or does it disrupt it on some or the other flimsy excuse. My feeling is that it will find some other excuse. Like I wrote yesterday, the party’s obstruction is not on any specific point; it is intended to stop the Congress from doing its job. Let’s keep an eye on what happens.

The real truth is that Shinde and the Congress have behaved like responsible parents, who sometimes concede ground to a spoilt child, keeping an eye on the larger goals. It’s called “maturity”, something that most in politics don’t understand….